Geeta Saar

07 Nov
2017

गीता सार हिंदी में

• क्यों व्यर्थ की चिंता करते हो? किससे व्यर्थ डरते हो? कौन तुम्हें मार सकता है? आत्मा ना पैदा होती है, न मरती है।

• जो हुआ, वह अच्छा हुआ, जो हो रहा है, वह अच्छा हो रहा है, जो होगा, वह भी अच्छा ही होगा। तुम भूत का पश्चाताप न करो। भविष्य की चिन्ता न करो। वर्तमान चल रहा है।

• तुम्हारा क्या गया, जो तुम रोते हो? तुम क्या लाए थे, जो तुमने खो दिया? तुमने क्या पैदा किया था, जो नाश हो गया? न तुम कुछ लेकर आए, जो लिया यहीं से लिया। जो दिया, यहीं पर दिया। जो लिया, इसी (भगवान) से लिया। जो दिया, इसी को दिया।

• खाली हाथ आए और खाली हाथ चले। जो आज तुम्हारा है, कल और किसी का था, परसों किसी और का होगा। तुम इसे अपना समझ कर मग्न हो रहे हो। बस यही प्रसन्नता तुम्हारे दु:खों का कारण है।

• परिवर्तन संसार का नियम है। जिसे तुम मृत्यु समझते हो, वही तो जीवन है। एक क्षण में तुम करोड़ों के स्वामी बन जाते हो, दूसरे ही क्षण में तुम दरिद्र हो जाते हो। मेरा-तेरा, छोटा-बड़ा, अपना-पराया, मन से मिटा दो, फिर सब तुम्हारा है, तुम सबके हो।

• न यह शरीर तुम्हारा है, न तुम शरीर के हो। यह अग्नि, जल, वायु, पृथ्वी, आकाश से बना है और इसी में मिल जायेगा। परन्तु आत्मा स्थिर है – फिर तुम क्या हो?

• तुम अपने आपको भगवान को अर्पित करो। यही सबसे उत्तम सहारा है। जो इसके सहारे को जानता है वह भय, चिन्ता, शोक से सर्वदा मुक्त है।

• जो कुछ भी तू करता है, उसे भगवान को अर्पण करता चल। ऐसा करने से सदा जीवन-मुक्त का आनंन्द अनुभव करेगा।

Srimad Bhagavad Geeta Saar

• Kyo vyarth ki chinta karte ho? Kisase vyarth darte ho? Kaun tumnhe maar sakta hain? Aatma na paida hoti hain, na marti hain.

• Jo hua vah achcha hua, jo ho raha hain, vah achcha ho raha hain, jo honga, vah bhi achcha hi hoga. Tum bhut ka pashchatap na karo,bhavishya ki chinta na karo. Vartman chal raha hain.

• Tumhara kya gaya, jot um rote ho? Tum kya laye the, jo tumne kho diya? Tumne kya paida kiya tha, jo nash ho gaya? Na tum kuch lekar aaye, jo liya yahi se liya. Jo diya, yahi par diya. Jo liya, bhagavan se liya. Jo diya isi ko diya.

• Khali hath aaye aur khali hath chale. Jo aaj tumhara hain, kal kisi ka tha, parso kisi aur ka hoga. Tum ese apna samajh kar magn ho rahe ho. Bas yahi prasannata tumhare dukho ka karan hai.

• Parivartan sansar ka niyam hai. Jise tum mrutyu samajhate ho, vahi to jivan hain. Ek kshan me tum karodo ke swami ban jate ho, dusare hi kshan me tum daridra ho jate ho. Mera – tera, chota – bada, apna – paraya man se mita do, phir sab tumhara hain, tum sabke ho.

• Na yah sharer tumhara hai, na tum sharer ke ho. Yah agni, jal, vayu, pruthvi, aakash se bana hain aue asi me mil jayega. Parantu aatma sthir hain – phir tum kya ho?

• Tum apne aapko bhagavan ko arpit karo. Yahi sabse uttam sahara hai. Jo iske sahare ko janata hai vah bhay, chinta, shok se sarvda mukt hai.

• Jo kuch bhi tu karata hai, use bhagavan ko arpan karta chal. Aisa karne se sada jivan-mukt ka aanand anubhav karega.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Comment moderation is enabled. Your comment may take some time to appear.

Powered By Indic IME